About Contact Privacy Policy
IMG-LOGO
Home ताजाखबर देश ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने पैसे डबल करने का लालच देकर लाखों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर पांच सदस्यों को किया गिरफ्तार
ताजाखबर

ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने पैसे डबल करने का लालच देकर लाखों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर पांच सदस्यों को किया गिरफ्तार

by Akhbar Jagat , Publish date - Sep 12, 2022 04:38PM IST
ग्वालियर क्राइम ब्रांच ने पैसे डबल करने का लालच देकर लाखों की ठगी करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर पांच सदस्यों को किया गिरफ्तार

अति. पुलिस महानिदेशक ग्वालियर जोन डी.श्रीनिवास वर्मा, द्वारा बढ़ते सायबर अपराधों व ठगी संबंधी अपराधों की रोकथाम हेतु प्रभावी कार्यवाही करने हेतु संबंधित को निर्देशित किया गया था। मुखबिर से सूचना मिली कि जडेरुआ बांध तिराहे के पास एक सफेद रंग की बिना नम्बर की क्रेटा कार में 5 लोग बैठे हुये है जो कि आपस में पैसा डबल करने के बारे में बातचीत कर रहे है। उक्त सूचना को गंभीरता से लेते हुए पुलिस अधीक्षक ग्वालियर द्वारा *अति0 पुलिस अधीक्षक शहर (पूर्व/अपराध) राजेश डण्डोतिया* को क्राइम ब्रांच व थाना मुरार की टीम बनाकर उक्त ठगी के रैकेट का पर्दाफाश कर गिरोह के सदस्यों को गिरफ्तार करने हेतु निर्देशित किया। वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशों पर सीएसपी मुरार/डीएसपी अपराध ऋषिकेश मीणा, एवं डीएसपी अपराध ग्वालियर रत्नेश तोमर के मार्गदर्शन में प्रभारी क्राईम ब्रांच निरीक्षक नरेश गिल व थाना प्रभारी मुरार निरीक्षक शैलेन्द्र भार्गव द्वारा क्राईम ब्रांच व थाना मुरार की टीम को मुखबिर के बताये स्थान पर भेजा गया। पुलिस टीम को जडेरुआ बांध तिराहे के पास एक सफेद रंग की बिना नम्बर की क्रेटा कार खड़ी दिखी, जिसकी घेराबंदी की गई तो उसमें पांच लोग बैठे मिले। पांचों की तलाशी लेने पर एक संदिग्ध के पास से नीले व काले रंग का बैग मिला जिसमें कैमिकल से भरी एक प्लास्टिक की बोटल रखी हुई थी, साथ ही उसमें काले रंग के दो कपड़े, दो कांच की प्लेटें व काले रंग का पदार्थ भी मिला। उक्त संदिग्धों से बिना नम्बर की कार के संबंध में पूछताछ करने पर उन्होने ग्राम बेड़ा थाना नूराबाद जिला मुरैना निवासी अपने साथी की होना बताया। पकड़े गये आरोपियों के खिलाफ थाना मुरार में अप0क्र0 769/22 धारा 420 भादवि का पंजीबद्ध होने से उक्त आरोपियों को थाना मुरार पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया गया। पकड़े गये आरोपियों से की गई प्रारम्भिक पूछताछ में कई लोगों के साथ भी लाखों की ठगी की बारदात करना स्वीकार किया है। पकड़े गये ठगों से कई राज्यों में की गई करोड़ों की ठगी की बारदातों का खुलासा होने की संभावना है। फरियादी पुष्पेन्द्र राजपूत निवासी गुड़ी गुढ़ा का नाका ने थाना मुरार में रिपोर्ट की थी कि सुबह एमएच चौराहे के पास मेरा एक दोस्त दो अन्य व्यक्तियों के साथ खड़ा हुआ था वहां पर उसने मुझे बताया कि यह दोनों लोग मशीन के जरिए पैसों को डबल कर देते हैं। लेकिन पांच लाख रूपये से कम की रकम को डबल नही करते हैं। तीन लाख रूपये मेरे पास है तुम केवल दो लाख रूपये मिला दोगेे तो पैसे डबल हो जाएंगे। मेरे द्वारा अपने पास से दो लाख रूपये अपने दोस्त को दे दिये। इसके बाद मेरा दोस्त अन्य दोनों के साथ मुझे लेकर नारकोटिक्स ऑफिस के सामने पड़े खाली खंडर में लेकर गया। वह पहले से दो और लोग मौजूद थे। उन्होने पांच लाख रूपये लेकर उन्हे कांच की प्लेटों के बीच बांध दिया उसके बाद कैमिकल लगाकर काले कपड़े में रख लिया। उसके बाद मुझसे कहा कि अब इन नोटों को आग से तपाना होगा, इससे इनमें लगा हुआ कैमिकल नोटों के साथ रखे गये कागजों को नोट बना देगा। इसके बाद उन्होने नोटों की गड्डियों को आग पर सेकना शुरू कर दिया। इस बीच ज्यादा आग लगने से मेरे द्वारा उसको अपने पैर से बुझाने का प्रयास किया गया जिससे कपड़े में बंधी हुई कांच की प्लेटे टूट गई। इस पर से वहां मौजूद इन लोगों ने कहा कि कांच की प्लेटे टूट जाने अब पैसे डबल नही हो पाएंगे और जब नई प्लेट आएगी तभी तुम्हारे पैसे डबल हो जाएंगे। इस पर से मेरे द्वारा अपने पैसे वापस मांगे गये तो मेरे दोस्त ने कहा कि मैं पैसे डबल कर दूंगा। यह बात मैने अपने अन्य मित्र को बताई तो मेरे मित्र ने बताया कि ऐसी ही घटना मेरे साथ व मेरी पहचान के लोगों के साथ भी हो चुकी है। मुझे अपने साथ ठगी किये जाने का एहसास होने पर थाना मुरार में आकर इसकी शिकायत की गई। जिस पर थाना मुरार पुलिस द्वारा पांच ठगों के खिलाफ अप0क्र0 769/22 धारा 420 भादवि का पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया। *ठगी का तरीका:-* गिरोह के सदस्य अलग-अलग शहरों में सॉफ्ट टारगेट की तलाश करते हैं जो कि आसानी से पैसा डबल करने के झांसे में आ जाए। इसके बाद गिरोह का सदस्य उस व्यक्ति से संपर्क करके पैसे डबल कराने के लिये अपने साथियों के पास लेकर आता था, उसके बाद यह गैंग अपनी बारदात को अंजाम देने के लिये शहर में किसी सूनसान मैदान या जगह की तलाश करते थे जहां पर वह सॉफ्ट टारगेट को लाकर पैसे डबल करने के नाम पर ठगी कर सकें। उक्त स्थान पर पहुंचकर गिरोह के सदस्य टारगेट से रूपये लेकर नोटों के साइज में कटे हुए कागजों की गड्डी में एक नोट ऊपर व एक नोट नीचे लगाकर उसक कांच की प्लेटों सहित बांध देते थे। इसके बाद वह कैमिकल लगाकर उन गड्डियों को काले कपड़े में बांधकर आग में सैकने का बहाना लेकर जला दिया करते थे। किसी वजह से कांच की प्लेटों के टूटने पर गिरोह के सदस्य टारगेट को दुबारा प्लेट लाकर पैसे डबल करने का वादा कर वहां से फरार हो जाते थे। उक्त प्रक्रिया के दौरान गिरोह के सदस्य असली नोटों को टारगेट का ध्यान भंग कर गायब कर देते थे। उक्त पैसे डबल करने वाले गिरोह का पर्दाफाश कर आरोपियों को पकड़ने में प्रभारी क्राईम ब्रांच निरीक्षक नरेश गिल, थाना प्रभारी मुरार निरीक्षक शैलेन्द्र भार्गव क्राईम ब्रांच टीम- उनि0 अमित शर्मा, उनि रजनी रघुवंशी, म.प्र.आर. अर्चना कंसाना, आरक्षक आकाश पाण्डेय, प्रमोद शर्मा, रूपेश शर्मा, प्रदीप यादव, जेनेन्द्र गुर्जर, कपिल पाठक, श्याम शर्मा, राहुल यादव थाना मुरार टीम- सउनि श्रवण कुमार दीक्षित, आर. योगेन्द्र सिकरवार, आर.चालक योगेन्द्र गुर्जर व मय एफआरव्ही 43 की सराहनीय भूमिका रही है।

Tags:
Share:
Facebook Twitter Whatsapp

Related News