About Contact Privacy Policy
IMG-LOGO
Home करियर शिक्षा 10 वी बोर्ड रिजल्ट में कमी आने पर स्कूलों के प्राचार्यों व शिक्षकों का इंक्रिमेंट रोका जा सकता है
करियर

10 वी बोर्ड रिजल्ट में कमी आने पर स्कूलों के प्राचार्यों व शिक्षकों का इंक्रिमेंट रोका जा सकता है

by Akhbar Jagat , Publish date - Aug 07, 2020 11:56AM IST
10 वी बोर्ड रिजल्ट में कमी आने पर स्कूलों के प्राचार्यों व शिक्षकों का इंक्रिमेंट रोका जा  सकता है

अख़बार जगत। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल के सरकारी स्कूलों के दसवीं बोर्ड परीक्षा परिणाम में इस बार भारी कमी आई है। इस बार प्रदेश का परीक्षा परिणाम 62.84 रहा। वहीं जिले का प्रतिशत 64.05 है, पिछले वर्ष यह 72.85 प्रतिशत था। जिले का पिछले साल के मुकाबले 8.80 प्रतिशत कमी आई है। इसे लेकर स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों ने दसवीं के परिणाम की समीक्षा की है। सभी जिले के संयुक्त संचालकों और जिला शिक्षा अधिकारियों से समीक्षा रिपोर्ट मांगी गई है। अभी कुछ जिलों से रिपोर्ट आनी बाकी है। जिले की समीक्षा रिपोर्ट लोक शिक्षण संचालनालय को सौंपी गई है। इसमें जिले के 56 स्कूलों के प्राचार्यों की सूची दी गई है। जिनके स्कूलों का परिणाम 3 फीसद से कम है। उनके खिलाफ विभाग कार्रवाई भी कर सकता है। बता दें कि पिछले साल 30 फीसद से कम परीक्षा परिणाम वाले स्कूलों के शिक्षकों के लिए दो बार परीक्षा आयोजित की गई और 16 शिक्षकों को अनिवार्य सेवानिवृति भी दी गई थी।इस बार भी खराब परिणाम वाले स्कूलों के प्राचार्यों सहित विषयवार शिक्षकों की सूची तैयार की जा रही है। विभाग के अधिकारियों का कहना है कि इनके खिलाफ वेतनवृद्घि या एरियर्स रोकने जैसी कार्रवाई हो सकती है या इन्हें प्रशिक्षण दिया जाएगा।जिले के 41 ऐसे स्कूल हैं, जिनके परीक्षा परिणाम में पिछले साल के मुकाबले 10 फीसद से अधिक की गिरावट हुई है। इसमें से 6 स्कूलों का परीक्षा परिणाम 30 से 36 फीसद कम आया है। वहीं 11 स्कूलों का परीक्षा परिणाम 21 से 29 फीसदी तक की कमी आई है। वहीं 24 स्कूलों का परीक्षा परिणाम 10 से 19 प्रतिशत कम हुआ है।

Tags:
Share:
Facebook Twitter Whatsapp

Related News