About Contact Privacy Policy
IMG-LOGO
Home ताजाखबर राजनीति मेला मंच कार्यक्रम में नगर परिषद सीएमओ को दोषी साबित कर निलंबित करना कितना उचित ?
ताजाखबर

मेला मंच कार्यक्रम में नगर परिषद सीएमओ को दोषी साबित कर निलंबित करना कितना उचित ?

by Akhbar Jagat , Publish date - May 09, 2022 11:40PM IST
मेला मंच कार्यक्रम में नगर परिषद सीएमओ को दोषी साबित कर निलंबित करना कितना उचित ?

सचिन राजोरिया मंदसौर जगत पशु मेला शामगढ़ में मुख्य अतिथि हरदीप सिंह डंग के फोटो के साथ महिषासुरमर्दिनि का फोटो लगाने की परमिशन आखिर किसने दी? और यदि परमिशन थी तो क्या यह जानकारी नहीं थी कि किस प्रकार का डांस होगा आर्केस्ट्रा आने पर ?यह स्वाभाविक सी बात है की आर्केस्ट्रा धार्मिक नृत्य मोहिनीअट्टम तो करेंगे नहीं अब श्रीमान हरदीप सिंह डंग के द्वारा इस प्रकार सीएमओ को निलंबित करने की प्रक्रिया अपने आप को बचाने की कोशिश है | जबकि आर्केस्ट्रा का कार्यक्रम पूर्व में निर्धारित था और इसमें कई गणमान्य भारतीय जनता पार्टी के सांसद विधायक और पत्रकारों को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया था |किसी की धार्मिक भावनाओं को आहत करने के लिए क्या केवल नगर परिषद सीएमओ जिम्मेदार ठहराना उचित होगा | एक नगर परिषद सीएमओ को पूरी नगर परिषद के मुख्य नेताओं के अनुरूप अपने आप को ढाल कर नगर परिषद में कार्य करना पड़ता है वह हर जगह अपने आप को आगे लिखा कर कार्य को नहीं कर सकता है| आपको बता दें कि हरदीप सिंह डंग ज्योतिरादित्य सिंधिया के काफी करीबी माने जाते हैं और उन्हीं के साथ उन्होंने कांग्रेस मैं विधायक पद को छोड़कर बीजेपी मै जुड़ गए है | रविवार को मेला मंच में आर्केस्ट्रा के माध्यम से अश्लील डांस करते हुए महिला और शामगढ़ नगर परिषद विवादों में आ गई है जिसके चलते शामगढ़ नगर परिषद मेले का आयोजन करवाने वाले नगर परिषद के सीएमओ को विवादित डांस के चलते तत्काल प्रभाव से निलंबित करने की अनुशंसा नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा तथा पर्यावरण विभाग के मंत्री हरदीप सिंह डंग के द्वारा की गई है | दरअसल आराध्य देवी महिषासुर मर्दिनी का फोटो मंच पर लगाकर आर्केस्ट्रा द्वारा अश्लील डांस करवाया गया जिसका विरोध दर्जी समाज की एक नारी शक्ति ने किया और आपत्ति दर्ज करा कर तुरंत डांस बंद करा दीया | यह एक पशु मेले का आयोजन था जिसमे ईस प्रकार के कार्यक्रम के लिए कोई पुर्व सुचना प्रशासन को नहीं थी,सीएमो को निलम्बन के लिए पत्र कलेक्टर साहब को भेज दिया गया है किंतु निलंबन के लिए कोई आदेश हमे अभी कलेक्टर साहब के द्वारा हमें प्राप्त नहीं हुआ है यथा संभव सुबह तक प्राप्त हो जाएगा | रवीन्द्र परमार एसडीएम गरोठ

Tags:
Share:
Facebook Twitter Whatsapp

Related News